तीन तलाक पर मोर्चा लेने वाली हक फाउंडेशन की फरहत को भाजपा में मिल सकती है बड़ी जिम्‍मेदारी

0
12

kraphy.com-Buy Metal Wall decor Online in India at Best Prices

नई दिल्‍ली। तीन तलाक का मुद्दा अब पहले से ज्‍यादा तूल पकड़ता जा रहा है। आज राज्‍यसभा में इस बहस होनी है। इस बीच तीन तलाक, हलाला और बहुविवाह के खिलाफ मोर्चा खोलने वाली मेरा हक फाउंडेशन की अध्यक्ष फरहत नकवी भी भाजपा में शामिल कर बड़ी जिम्मेदारी देने की तैयारी चल रही है। जानकारी के मुताबिक इस मामले में फरहत की मुलाकात एक प्रभारी मंत्री से भी हुई है। प्रभारी मंत्री से मुलाकात के बाद से साफ हो गया है कि उन्हें भी भाजपा में कोई पद मिल सकता है।

जल्‍द लगेगी हाईकमान की मुहर
हालांकि बरेली के प्रभारी मंत्री ब्रजेश पाठक के साथ हुई मुलाकात के बाद जो भी फैसला हुआ है उस पर भाजपा की तरफ से मुहर लगना बाकी है। इस बीच बरेली की ही निदा खान के भाजपा में शामिल होने पर भी चर्चा जोरों पर है। यह चर्चा फरहत नकवी के भाजपा में पद मिलने की चर्चा के बाद से और तेज हो गई है। पार्टी के नेताओं का कहना है कि फरहत के शामिल होने पर हाईकमान जल्‍द ही मुहर लगा सकता है, ऐसा इसलिए लिए पार्टी अब इन लोगों को राजनीतिक काय्रक्रमों में सहभागिता सुनिश्चित करना चाहती है।

महिला संबंधी जिम्मेदारी
इससे पहले फरहत अल्पसंख्यक आयोग के चेयरमैन से भी मिल चुकी है। उनसे मिलने के बाद ही प्रभारी मंत्री से बैठक तय हुई थी। बैठक में प्रभारी मंत्री से उनकी भाजपा से जुड़कर काम करने के मुद्दे पर चर्चा हुई। इस दौरान फरहत ने कहा कि वह पीडि़त महिलाओं के लिए संस्था बनाकर काम कर रही हैं और आगे भी उसी दिशा में काम करना चाहती है। इससे कयास लगाए जा रहे हैं कि उन्‍हें महिला संबंधी मामलों को लेकर पार्टी जिम्‍मेदारी सौंप सकती है। बताया जा रहा है कि अगर भाजपा में उन्‍हें पीडि़त महिलाओं संबंधी जिम्मेदारी मिली तो वह भाजपा ज्‍वाइन कर सकती हैं। ताकि वह सरकार की मिली जिम्मेदारी को निभाने के साथ पीडि़त महिलाओं के लिए भी काम जारी रख सकें।

रजिया को न्‍याय दिलाकर रहेंगी
मेरा हक फाउंडेशन की अध्यक्ष फरहत नकवी ने आरोप लगाया कि अल्पसंख्यक आयोग ने पीडि़त महलाओं से मुलाकात तो की लेकिन वहां पर महिलाओं के लिए पानी तक की व्यवस्था नहीं की जिससे महिलाओं को कई तरह की समस्‍याओं को फेस करनी पड़ी। प्रेस कॉन्फ्रेंस में खड़े होकर तीन घंटे तक महिलाओं को अपनी बतानी पड़ी, जिसमें वह भी पीडि़ताओं के साथ पूरे समय मौजूद रही, लेकिन आयोग ने जारी विज्ञप्ति में उनका नाम ही गायब कर दिया। फरहत नकवी ने कहा कि वह आखिरी सांस तक रजिया को न्याय दिलाने के लिए लडे़गी और सुप्रीम कोर्ट में भी याचिका दायर करेंगी।

SHARE